Who discovered Electricity in Hindi ? बिजली का आविष्कार किसने किया?

Image credit : Pixabay

Last Updated on December 22, 2019 by Admin

आज के डिजिटल वर्ल्ड के दुनिया में बिजली के बिना कुछ भी सोचा नहीं जा सकता. हमारे घर में ऑफिस में और हम जो डिवाइसेज़ उपयोग करते है. इन सब के लिए बिजली चाहिए तो बिजली को पहली बार किसने बनाया और कैसे उसको डिस्कवर किया ?

History of Electricity:

अब इसका जवाब दो लफ़्ज़ों में देना मुश्किल है क्यों की इस बिजली के लिए बहुत सारे वैज्ञानिक प्रयोग किये. जिसके अंदर इलेक्ट्रिक फ़िश (Electric Fish) ,बिजली (Thunder), इलेक्ट्रिक स्पार्क(Electric Spark) जैसे चीज़ें है. जिसके बदले में आज हम इस खूबसूरत खोज का फायदा उठा रहे है.

बिजली, ऊर्जा का एक रूप है इसीलिए इसे आविष्कार नहीं एक खोज माना जाता हैं. बिजली की शुरुवाद 18वि सदी या 19 वि सदी में नहीं बल्कि इसका ताल्लुक कही साल पुराना है. 1930 में हुई archaeological खोज में जो चीज़ें निकल आयी उसे जानने के बाद आप हैरान हो जाएंगे इस खोज के अंदर रोमन ज़माने के प्राचीन बैटरीस निकल आयी थी. बग़दाद में भी इसी तरह के बैटरीस निकल आयी. इससे ये साफ़ ज़ाहिर होता है के बहुत पहले से ही बिजली का संकल्पना था. 

600 BC में ग्रीक्स ने एम्बर(Amber) जो पेड़ से निकलता है उसे जानवरों के बालों के साथ रगड़ा थो आपस में आकर्षण पैदा हुआ. इसीको स्थैतिक विद्युत (Static electricity) कहते है.

17 वि सदी में बहुत सारे प्रयोग किये गए उन सब की जानकारी इस वीडियो में देना मुश्किल है. इन सारे प्रयोग के बाद कुछ खोजों (discoveries ) को किया गया जिसके अंदर electrostatic generator, positive और negative currents और conductor insulator है. 

Early experiments :

1772 में बेंजामिन फ्रेंक्लिन ने kite experiment किया जो एक पतंग,चाबी और बिजली को इस्तेमाल करके किया गया था. इस प्रयोग में बेंजामिन फ्रेंक्लिन ने बिजली गरज थे वक़्त एक पतंग को उड़ाया और उस पतंग के साथ एक चाबी को बाँध दी .

क्यों की पतंग के सात चाबी थी इसीलिए बेंजामिन फ्रेंक्लिन को बिजली का एक ज़ोर का झटका लगा. इस प्रयोग के बाद बिजली से आने वाला स्पार्क और बिजली दोनों को एक ही माना गया.

साल 1800 में  इटालियन फिजिसिस्ट अलेस्साँद्रो वोल्टा ने एक ज़बरदस्त खोज की वो ये था के रासायनिक प्रतिक्रिया से बिजली को बनाना था. वोल्टा ने एक इलेक्ट्रिक बैटरी पॉजिटिव और नेगेटिव कन्नेक्टर्स को इस्तेमाल करके बनाया और इसी साइंटिस्ट के नाम से वोल्ट यूनिट को रखा गया.

1831 में माइकल फैराडे ने एक कॉपर वायर और मैगनेट को लेकर एक ऐसा प्रयोग बनाया जिसके बाद लगातार बिजली पैदा करनेका एक तरीक़ा मिल गया. इस प्रयोग के लिए फैराडे ने एक कॉपर coil के अंदर मैगनेट को मूव (move) किया थो electricity पैदा होना शुरू हो गया.

अब ये प्रयोग के बाद बैटरीज पर निर्भर रहना नहीं पड़ता था. इस प्रयोग को इस्तेमाल करते हुए 1878 में अमेरिका के वैज्ञानिक Thomas Edison और ब्रिटिश के वैज्ञानिक जोसफ स्वान फिलामेंट लाइट बल्ब का आविष्कार अपने अपने देशों में किया था.आज भी बल्ब का अविष्कारक थॉमस एडिसन को मानते है जबकि स्वान ने भी इसका आविष्कार किया था.

एडिसन के कहने पर अब ये दो वैज्ञानिक स्वान और एडिसन ने मिलकर फिलामेंट लैंप को बनाने वाली एक कंपनी को बनाया. 1882 न्युयोर्क में पहलीबार डायरेक्ट कर्रेंट (DC) का इस्तेमाल करके स्ट्रीट लैंप लगाया गया.

Nikola Tesla and AC current :

1900’s में अमेरिका के ज़बरदस्त अविष्कारक निकोला टेस्ला, थॉमस एडिसन के साथ काम किया और Ac मोटर्स और Alternating current (AC ) को बनाया. एडिसन ने जो Direct current को बनाया वो दूर के जगाओं के लिए भेजना मुश्किल था. टेस्ला ने जो Alternating current बनाया उसे दूर के जगाओं के लिए भेजना बहुत आसान था.

टेस्ला के इस Ac मोटर तकनीक को इंडस्ट्रियलिस्ट वेस्टिंगहाउस ने खरीद लिया. और अपने ही नाम पर वेस्टिंगहाउस कंपनी को शुरू किया.और अमेरिकन सोसाइटी को समझाया के भविष्य में DC कर्रेंट के बदलेमे सिर्फ AC कर्रेंट का इस्तेमाल करना बहुत फ़ायदेमंद होगा. इसके बाद अलटरनेटिंग कर्रेंट को ही उपयोग किया गया. आपको ये बतादूँ के वेस्टिंगहाउस उस ज़माने में बहुत बड़ी कंपनी थी.

इस तरह इलेक्ट्रिसिटी आज हम तक पहुंची है.
 

3 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*